Poems

मैं यहाँ तू वहाँ (Main Yahan Tu Vahan)

long-distance

उन लम्हों का रहता है इंतज़ार
जब हम होंगे एक दुसरे के पास
सिमट के रह जाएगी दुनिया उन हसीन पलों में
भूल जायेंगे हम हकीक़त उन लम्हों में

ज़िन्दगी ने हमे किया है मजबूर
रहना पड़ रहा है एक दूजे से दूर
हँसते खेलते यह चुनौती भी पार हो जाएगी
यह दूरी हमारी मोहोब्बत की शमा को ना बुझा पायेगी

इतने दूर फिर भी इतने पास
यही है प्यार का अहसास
हर मुसीबत हो जाएगी यूं ही दूर
क्योकि हम है मोहोब्बत में मशगुल

तो क्या हुआ अगर
मैं यहाँ हूँ और तू है वहाँ
यही है भरोसा , यही है आस
की जल्द ही हम होंगे एक साथ

For those who cannot read Hindi but can understand it.. here’s the text in Hinglish

Un lamho ka rehta hai intezaar
Jab hum honge ek doosre ke paas
Simat ke reh jayegi duniya un haseen palo mein
Bhool jayenge hum hakikat un lamho mein

Zindagi ne hume kiya hai majboor
Rehna pad rha hai ek duje se dur
Haste khelte yeh chunauti bhi paar ho jayegi
Yeh duri humari mohobbat ki shama ko na bujha payegi

Itne dur fir bhi itne paas
Yahi hai pyaar ka ehsaas
Har museebat ho jayegi yu hi dur
Kyuki hum hai mohobbat mein mashgul

Toh kya hua agar
Main yahan hu aur tu hai vahan
Yahi hai bharosa, yahi hai aas
Ki jald hi hum honge ek saath

long-distance2

Advertisements

12 thoughts on “मैं यहाँ तू वहाँ (Main Yahan Tu Vahan)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s